लखनऊ : स्पेशल इन खिलाड़ियों ने दुनिया को दिखाया दम

लखनऊ । हमारी सोच एकदम आपके जैसी है, हम एकदम सामान्य बच्चे की तरह सोचते है तथा वैसे ही करते हैं, यहां बात हो रही है स्पेशल बच्चों की जो खेलकूद की दुनिया सहित विभिन्न क्षेत्रों में नाम कमा रहे है। ऐसे ही स्पेशल बच्चों को एक मंच देेने तथा आम जनों को इनकी प्रतिभाओं से रूबरू कराने के लिए सरस्वती एजुकेशनल फाउंडेशन द्वारा आयोजित हौसला राज्य स्तरीय स्पेशल गेम्स के तीसरे संस्करण के पहले दिन इन बच्चों के खेल के मैदान में दिखे जोश को हर किसी ने सराहा।

एकदम ओलंपिक खेलों की तर्ज पर इन खेलों की मशाल भी रोशन हुई जिसे स्पेशल ओलंपिक में पदक जीतने वाले बच्चों ने इस मशाल को रोशन किया तथा अर्जुन अवार्डी इंटरनेशनल एथलीट गुलाब सिंह की अगुवाई में जब स्पेशल बच्चों ने दौड़ के बाद मशाल अतिथियों को सौंपी तो पूरा स्टेडियम तालियों से गूंज उठा। मशाल दौड़ में स्पेशल खेलों के इंटरनेशनल पदक विजेता रोहन पाण्डेय, कुलप्रीत कौर अनिष्का उपाध्याय, नितिश कुमार व मो.हामिद समेत कई खिलाड़ियों ने सामूहिक रूप से खेल भावना की शपथ ली।

इन खेलों का शुभारंभ विशिष्ट अतिथिगण भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) के क्षेत्रीय केंद्र के निदेशक राजिंदर सिंह, वरिष्ठ आईएएस डा.हरिओम, अखिलेश मिश्रा व पीसी श्रीवास्तव, लखनऊ विष्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर एसपी सिंह, खेल निदेशक डा.आरपी सिंह, मनकामेष्वर मंदिर की महंत देव्या गिरि, अर्जुन अवार्डी इंटरनेशनल एथलीट गुलाब सिंह, वरिष्ठ भाजपा नेता डा.अशोक बाजपेयी, क्रीड़ा भारती (अवध प्रांत) के अध्यक्ष अवनीश सिंह, इंटरनेशनल जेवलिन थ्रोअर सुमन देवी, इंटरनेशनल हैमर थ्रोअर गुंजन सिंह, शिक्षा अधिकारी ललिता प्रदीप व यूपी जूडो एसोसिएशन के सचिव मुनव्वर अंजार ने स्पर्धा में खुद हिस्सा लेकर किया।

इस तरह से सभी अतिथि इन स्पेशल बच्चों के आयोजन के सहभागी बने। (साई) के क्षेत्रीय केंद्र के निदेशक राजिंदर सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि भारतीय खेल प्राधिकरण खेलों को बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयासरत हैं। खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में प्रतिभाओं को आगे बढ़ाने के लिए सरकार खासा ध्यान दे रही है। उन्होंने कहा कि उनका प्रयास होगा कि खेलो इंडिया प्रोग्राम के अंतगतत ऐसे स्पेशल बच्चों को स्टेडियम में अभ्यास की सुविधा दी जाए तथा इन्हें प्रशिक्षित कोचों का प्रशिक्षण भी मिले तथा इन बच्चों के लिए भी खेलो इंडिया प्रोग्राम के तहत आयोजन कराए जाएं।

इस अवसर पर इन स्पेशल बच्चों द्वारा बनाई गई विभिन्न वस्तुओं की एक प्रदर्शनी भी लगाई गई जिसमें इन बच्चों द्वारा बनाई गई डिजाइनर मोमबत्ती, सजावटी सामान, लिफाफे, कपड़े, फूलदान, दिए तथा रूमाल घरेलू मसालों को बनाने में इन बच्चों की कारीगरी व हुनर को सभी ने सराहा। आयोजन सचिव डा.सुधा बाजपेई के अनुसार दो दिवसीय इस आयोजन में आशा ज्योति, आशा आवा, अस्मिता, सीमा सेवा संस्थान, सक्षम, चेतना, समर्पण, टच स्पेशल, ज्योति स्पेशल स्कूल, नवदीप, सोनल डे केयर, उम्मीद आशा किरण, बहराइच से बाबा सुंदरदास संस्था व क्राइस्ट चर्च के बच्चे एथलेटिक्स, बोची व पावरलिफ्टिंग की स्पर्धाओं में भाग ले रहे है। इस अवसर पर बजते म्यूजिक पर इन बच्चों ने जमकर झूमकर व डांस करके अपनी खुशी का इजहार किया। हौसला गेम्स का समापन व पुरस्कार वितरण समारोह 15 नवंबर को दोपहर दो बजे से होगा।

पहले दिन हुई स्पर्धाओं के परिणाम इस प्रकार हैं-

बोची (ग्रुप ए):-प्रथमःअष्मिता, द्वितीयः समर्पण, तृतीयः जेएसएस
बोची (ग्रुप बी):-प्रथमःबीएसएस, द्वितीयः पायसम, नवदीप,
बोची (ग्रुप सी):-प्रथमः आशा आवा कैंट, द्वितीयः टच केयर, तृतीयः सीमा सेवा।
100 मी.दौड़ (16-21 साल, एमआर-ग्रुप ए):-प्रथमः प्रदीप यादव, द्वितीयःजीषान, तृतीयः आयुष
100 मी.दौड़ (16-21 साल, एमआर-ग्रुप बी):-प्रथमः नितेश, द्वितीयः ऋषभ, तृतीयःवदूद,
100 मी.दौड़ (12-15 साल, एमआर-ग्रुप एफ):–प्रथमः अनुराग, द्वितीयः चेतन, तृतीयःप्रज्जवल

 

loading...