मायावती के इस बयान पर बोले अखिलेश : कहा- हमारा रिश्ता किसी से खराब नहीं

लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती के गठबंधन को लेकर दिए गए बयान पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने बड़ा बयान दिया है। अखिलेश ने कहा, ‘सभी पार्टियां गठबंधन कर रही हैं। हम तो बीजेपी से लड़ ही रहे हैं। हमारा रिश्ता किसी से खराब नहीं हैं। कोई रिश्ता बनाए, तो सबसे पहले हम रिश्ता बना लेते हैं।’

बता दें कि मायावती ने कहा था कि किसी भी धर्मनिरपेक्ष पार्टी के साथ हम गठबंधन सम्मानजनक सीट संख्या मिलने पर ही करेंगे, वरना पार्टी अकेले ही चुनाव लड़ेगी।

इस दौरान अखिलेश ने भाजपा पर जमकर निशाना साधा। भाजपा पर जनता को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए कहा कि इसके खिलाफ महागठबंधन बन जाये तो देश और प्रदेश दोनों का भला हो जायेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि चुनाव के समय भाजपा नफरत रुपी ओपियम की पुडिय़ा लेकर चलती है इसी से सबको गुमराह कर देती है।

सभी को समझना होगा कि पुडिय़ा से खुशहाली नहीं आयेगी। विकास करना होगा। उनका कहना था कि भाजपा के खिलाफ महागठबंधन बनना चाहिए। इससे नफरत फैलाने वाली राजनीति को रोकने में मदद मिलेगी। देश और प्रदेश का भला होगा।

उन्होंने कहा कि जिस सोशल मीडिया ने भाजपा को खूब चढाया, अब वही ठीक कर रहा है। सोशल मींडिया में भाजपा के बारे में सब कुछ बताया जा रहा है। भाजपा गुजरात माडल से प्रदेश को तरक्की दिलाना चाहती थी लेकिन उसी माडल के प्रयोग की वजह से हर तरफ त्राहि-त्राहि मची हुई है।

अखिलेश यादव ने माइक्रोसाफ्ट के मालिक बिल गेट्स की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से हुई मुलाकात पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि गेट्स की संस्था उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य की दिशा में बेहतर काम कर रही है। एमएमआर और आईएमआर में तो यह संस्था बेजोड़ मदद कर रही है।

उन्होंने कहा कि अयोध्या नगर निगम के मेयर पद पर चुनाव लड रहे सपा प्रत्याशी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पूरे प्रदेश में सभा करने पर मजबूर कर दिया। उनका दावा था कि योगी की सभाओं में भीड़ नहीं हो रही है। खुफिया रिपोर्ट मुख्यमंत्री के पास भी होगी। भीड़ भी क्यों हो, सात-आठ महीने में कोई काम तो हुआ नहीं। लोगों के बीच नफरत फैलाने की कोशिश की गयी। जीएसटी ने व्यापार चौपट कर दिया है। व्यापारियों की हालत खराब है।

नगर निकाय चुनाव के लिये भाजपा के संकल्प पत्र को उन्होंने छलावा बताया और कहा कि ज्यादातर नगरीय निकायों पर भाजपा का कब्जा था लेकिन सफाई आदि के हालात सब जानते हैं। जनता को मौका मिला है वह सबक सिखायेगी। उन्होंने कहा कि किसानों की मददगार होने का दावा करने वाली भाजपा सरकार में किसान ही ज्यादा परेशान है। आलू कोल्ड स्टोरेज में सड़ रहे हैं। गन्ने के मूल्य का भुगतान नहीं हो रहा है।

 

loading...