रवि शास्त्री बने टीम इंडिया के नये कोच, इन 5 गुणों की अहम भूमिका

नई दिल्ली। रवि शास्त्री को टीम इंडिया का मुख्य कोच चुन लिया गया है। वीरेंद्र सहवाग, टॉम मूडी, रिचर्ड पायबस और लालचंद राजपूत भी मुख्य कोच की रेस में थे, लेकिन शास्त्री को यह जिम्मेदारी सौंपी गई।

कोच सलाहकार समिति द्वारा उन्हें कोच चुनने कनिर्णय एकदम सही रहा। अब हम आपको वो 5 कारण बताने जा रहे हैं जिनके चलते रवि शास्त्री को टीम इंडिया का कोच चुना गया।

1. शास्त्री के पास है अनुभव

शास्त्री के पास क्रिकेट का काफी अुनभव है जो 2019 वल्र्ड कप के लिए काम आ सकता है। उन्होंने भारत के लिए 80 टेस्ट में 3830 रन और 150 वनडे मैच में 3108 रन बनाए हैं। साथ ही वह गेंदबाज के तौर पर भी अच्छे साबित हुए हैं।

उन्होंने टेस्ट मैचों में 151 और वनडे में 129 विकेट भी लिए हैं। उनका यह अनुभव अब विराट कंपनी के काम आ सकता है। ऐसे में कोच पद पर रहते हुए वो भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऑलराउंड परफॉर्मेंस निखारने में और नए टैलेंट की खोज में बहुत बड़ी भूमिका निभा सकते हैं।

2. टीम मैनेजमेंट का अनुभव

रवि शास्त्री दुनिया के महान खिलाडिय़ों में शुमार हैं और उनके पास टीम मैनेजमेंट का भी लंबा अनुभव है। साथ में वह टीम के डायरेक्टर भी रह चुके हैं, जो उनके लिए पल्स प्वाइंट है। भारत ने 1983 विश्व कप पर कब्जा किया था तो वह उस दौरान शास्त्री टीम के सदस्य भी थे।वह 2007 में क्रिकेट मैनेजर के तौर पर भारतीय टीम के साथ बांग्लादेश दौरे पर गए थे, जब ग्रेग चैपल ने वल्र्ड कप में खराब प्रदर्शन के बाद हेड कोच के पद से इस्तीफा दे दिया था।

3. कोहली के साथ है अच्छा संबंध

रवि शास्त्री के टीम के कप्तान विराट कोहली के साथ अच्छे संबंध हैं। कोहली ने पहले भी बीसीसीआई के आगे शात्री को कोच बनाने की बात रखी थी। वहीं 2014 में इंग्लैंड से 1-3 से सीरीज हारने के बाद शास्त्री को टीम का डायरेक्टर बनाया गया। 2014 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में बड़ी नाकामी के बाद विराट कोहली शास्त्री की ही देख-रेख में एक बड़े खिलाड़ी के तौर पर उभरकर सामने आए थे।

4. पहले भी रह चुके हैं टीम के कोच

शास्त्री पहले भी टीम के कोच रह चुके हैं और उनके कार्यकाल के दौरान भारतीय टीम ने श्रीलंका को उसी की धरती पर 2-1 से हराकर टेस्ट मैच सीरीज जीती थी। यह कुमार संगाकारा की फेयरवेल सीरीज भी थी। इसके बाद 4 मैचों की टेस्ट सीरीज में भारत ने घर में साउथ अफ्रीका को 3-0 से मात दी।

लेकिन भारत को टी20 और वनडे सीरीज में हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद भारत टीम को ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर 4-1 से करारी मात मिली। लेकिन टीम इंडिया ने शानदार वापसी करते हुए पहली बार टी20 सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को उसी की धरती पर 3-0 से मात दी थी।

5. पहले ही साफ कर ली थी पद हासिल करने की बात

टीम इंडिया का कोच बनने के लिए शास्त्री ने पहले आवेदन नहीं किया था। बाद में कोहली के कहने पर उन्होंने आवेदन भरने के लिए हामी भरी,लेकिन इसके लिए उन्होंने एक शर्त रखी।

शास्त्री ने पहले ही साफ कह दिया था कि यदि उन्हें कोच चुना जाएगा तो वह तभी आवेदन करेंगे, अन्यथा नहीं। एेसे में कोच सलाहकार समिति ने उनका सम्मान रखने के लिए भी उन्हें कोच बनाने के लिए सहमति जताई।

loading...