प्रतापगढ़ में कार-ट्रक में जोरदार टक्कर, 7 लोगों की मौत

प्रतापगढ़ । लखनऊ-इलाहाबाद हाईवे पर मंगलवार सुबह मानिकपुर कस्बे में ड्राइवर को झपकी आने से एक कार सामने से आ रहे ट्रक से जा टकराई। इससे कार में सवार एक साल के मासूम समेत सात दर्शनार्थियों की मौत हो गई।

कार में सवार लोग वाराणसी में बाबा विश्वनाथ का दर्शन और इलाहाबाद में संगम स्नान करने के बाद अपने घर लखनऊ जा रहे थे। पुलिस ने मृतकों के घरवालों को सूचना देकर शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

लखनऊ के ठाकुरगंज थाना क्षेत्र के मल्लाही टोला निवासी सुमित मिश्र (23) पुत्र शैलेंद्र मिश्र, मां सरोज मिश्रा (54), पत्नी पूजा उर्फ निशा (22), एक साल के बेटे कृष्णा, पड़ोसन फूलकली उर्फ रामप्यारी (58) पत्नी रामप्यारे यादव, अपनी सास मोहिनी अवस्थी (59) पत्नी दुर्गादीन निवासी दौलतगंज ठाकुरगंज लखनऊ के साथ रविवार को वैगन आर कार से वाराणसी के लिए निकले थे। कार मल्लाही टोला ठाकुरगंज निवासी सुजीत पांडेय (24) पुत्र दयाशंकर पांडेय चला रहा था। सोमवार को बाबा विश्वनाथ का दर्शन करने के बाद सबने मंगलवार सुबह इलाहाबाद में संगम स्नान किया। रिमझिम बारिश के बीच करीब सात बजे लखनऊ जाते समय जैसे ही यह लोग प्रतापगढ़ के मानिकपुर कस्बे के मुंदीपुर मोहल्ले में पहुंचे ड्राइवर को झपकी आने से कार काफी दाहिने चली गई और सामने से आ रहे ट्रक से जा टकराई। यह देख आसपास के लोग भागकर पहुंचे और पुलिस को सूचना दी। हादसे में कार पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई और उसमें सवार लोग नहीं निकल सके। करीब आधा घंटे तक कड़ी मशक्कत कर स्थानीय लोगों ने कार का गेट आदि काटकर सभी को निकाला लेकिन तब तक चारों महिलाओं व मासूम समेत छह लोगों की मौत हो चुकी थी। एक युवक की सांस चल रही थी लेकिन वह सिर्फ इतना बता पाया कि उसका नाम सुजीत पांडेय है और उसकी भी मौत हो गई। पुलिस ने कार में मिले मोबाइल से फोन कर मृतकों के परिजनों को जानकारी दी।

घटनास्थल से ही जिला अस्पताल भेजे शव
मानिकपुर पुलिस ने घटनास्थल से बिना पंचनामा किए ही दो लोडर से सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया। थाने के दो दरोगा भी पंचनामा भरने के लिए जिला अस्पताल पहुंचे। हालांकि मृतकों के परिजन काफी देर तक जिला अस्पताल नहीं पहुंच सके। हैदरगढ़ (बाराबंकी) से सुमित के रिश्तेदार प्रमोद मिश्र पहुंचे लेकिन वह भी न तो सभी मृतकों को पहचान सके और न ही उनके जाने की बाबत कुछ बता सके। कुछ देर बाद कार चालक सुजीत पांडेय के रिश्तेदार आए तो अधिकांश लोगों की पहचान की।

मानिकपुर चले गए सुमित के परिजन
हादसे की सूचना पर सुमित मिश्र के परिजन जिला अस्पताल पहुंचने की बजाय मानिकपुर थाने पहुंच गए। मानिकपुर में सुमित के पिता शैलेंद्र ने घटना की बाबत तहरीर दी। उसके बाद प्रतापगढ़ आए। परिजनों के इंतजार में पोस्टमार्टम देर शाम तक शुरू नहीं हो सका।

 

loading...