ग्रामीण आजीविका सुधार परियोजना पर तेजी से हो रहा काम : अजय टम्टा

पिथौरागढ़ : केन्द्रीय कपड़ा राज्य मंत्री ने कहा कि जैव विविधता संरक्षण एवं ग्रामीण आजीविका सुधार परियोजना अपने उद्देश्य में सफल हो रही है और इसे विस्तार दिया जाएगा। उन्होंने कहा इसी तर्ज पर अन्य पंचायतों में भी कार्य किया कर सीमांत की हस्तकला को विश्व स्तर पर पहचान दिलाएंगे। रविवार को ब्लॉक सभागार में हुई बैठक में केन्द्रीय कपड़ा राज्य मंत्री अजय टम्टा ने कस्तूरा मृग विहार अस्कोट में वन विभाग की ओर से संचालित जैव विविधता संरक्षण एवं ग्रामीण आजीविका सुधार परियोजना की समीक्षा बैठक ली। इस दौरान उन्होंने कहा कि परियोजना को बड़ा रूप दिया जाएगा।

इस दौरान उन्होंने परियोजना के लाभार्थियों से संवाद कर उनकी समस्याएं सुनीं। उन्होंने कहा कि एक्सपोर्ट प्रमोशनल के माध्यम से नये डिजायनों के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय व्यापार को बढ़ावा दिया जाएगा। कामन फेसेलिटी सेंटर से सभी उत्पादकों को व्यापार की सुविधा दी जाएगी। इस दौरान उप प्रभागीय वनाधिकारी एके श्रीवास्तव ने परियोजना से पिछले पांच वर्षों के कार्यों का विवरण दिया। कार्यक्रम का संचालन वन क्षेत्राधिकारी अस्कोट राजेन्द्र विष्ट ने किया। एसडीएम आरके पांडे, बीडीओ मानस मित्तल, वन दरोगा नरेंद्र राम, नंदा बल्लभ जोशी, जय प्रकाश, जगत मर्तोलिया, प्रदेश उपाध्यक्ष केदार जोशी आदि मौजूद थे।

loading...