इन चीजों का प्रैग्नेंसी में न करें सेवन, हो सकता है बड़ा खतरा

प्रैग्नेंसी का एहसास हर औरत के लिए खुशियां लेकर आता है। इस समय महिलाओं को अपनी सेहत का खास ख्याल रखना पड़ता है। उनके द्धारा ली गई अच्छी या बुरी डाइट का सीधा असर गर्भ में पल रहे बच्चे पर पड़ता है।

कोई भी औरत नहीं चाहती कि उसके बच्चे को किसी भी तरह की परेशानी हो लेकिन जाने अनजाने में वो कुछ ऐसा खा लेती है जो होने वाले बच्चे के लिए हानिकारक होता है। आज हम आपको ऐसे ही कुछ फ्रूडस के बारे में बताने जा रहें है जिसके सेवन से प्रैग्नेंसी के दौरान गर्भपात का खतरा हो सकता है।

1. करेला
वैसे तो करेले की सब्जी खाना सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है लेकिन प्रैग्नेंसी के दौरान इसे खाने से बच्चे को नुकसान हो सकता है। इसमें मोमोकेरिन होते है जो गर्भ में बच्चे के लिए हानिकारक होते है। इस अवस्था में इसे खाने से गर्भपात की नौबत आ सकती है।

2. चाइनीस फ्रूड
इस दौरान हर किसी का चटपटा, चाइनीस खाने का मन होता है लेकिन इन फ्रूड को खाने से आपकी सेहत के साथ-साथ बच्चे की सेहत पर भी बुरा असर पड़ता है। इसमें मोनो सोडियम ग्लूटामेट होता है जिससे इंफैक्शन होने का डर रहता है। इनके जरिए गर्भ में बैक्टीरिया पहुंच जाते है जिससे बच्चे की सेहत को नुकसान हो सकता है।

3. फ्रूटस
प्रैग्नेंसी में फ्रूटस खाना सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है लेकिन कुछ फ्रूटस खाने से बच्चे को नुकसान पहुंच सकता है। पाइनएप्पल, अंगूर में ब्रोमेलिन होता है। इन्हें आखिर के तीन महिनों में खाने से समय से पहले प्रसव हो सकता है जोकि बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है।

4. पपीता
डॉक्टर भी प्रैग्नेंसी मे पपीता खाने से मना कर देते है। इसका प्रयोग पेट संबंधी रोगों या कब्ज होने पर पेट साफ करने के लिए किया जाता है। इसकी तहसीर गर्म होने के कारण इसे प्रैग्नेंसी में इसे नहीं खाना चाहिए। इसे गर्भावस्था में खाना से गर्भस्थ शिशु को नुकसान पहुंचता है।

5. सी फ्रूड
हर तरह के सी फ्रूूड में ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है। इसके अलावा इसमें मरक्यूरी भी अधिक मात्रा में होता है जोकि गर्भ में यूटेरस की दिवारों को सिकोड़ देता है। इससे गर्भ में पल रहा बच्चा दिमागी तौर पर कमजोर हो सकता है। इसलिए जितना हो सकें सालमोन, क्रेब, शार्क और मछली के मांस का सेवन न करें।

 

loading...