संस्कृति ही मनुष्य को सिखाती है अच्छा आचरण : प्रो. एस.पी. सिंह

अन्तर्राष्ट्रीय शैक्षिक-सांस्कृतिक महोत्सव ‘यूरेका इण्टरनेशनल-2018’ का भव्य उद्घाटन

लखनऊ : सिटी मोन्टेसरी स्कूल, आनन्द नगर कैम्पस द्वारा आयोजित चार दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय शैक्षिक-साँस्कृतिक महोत्सव ‘यूरेका इण्टरनेशनल-2018’ भव्य उद्घाटन आज सी.एम.एस. कानपुर रोड ऑडिटोरियम में सम्पन्न हुआ। मुख्य अतिथि के रूप में पधारे लखनऊ विश्वविद्यालय के वाइस-चांसलर प्रो. एस. पी. सिंह ने दीप प्रज्वलित कर इस अन्तर्राष्ट्रीय समारोह का विधिवत उद्घाटन किया। समारोह में श्रीलंका, बांग्लादेश, नेपाल समेत देश के विभिन्न प्रान्तों से पधारे लगभग 500 प्रतिभागी छात्रों की उपस्थिति ने एकता, भाई-चारे से ओत-प्रोत एक लघु विश्व का दृश्य प्रस्तुत किया। उद्घाटन समारोह में सी.एम.एस. छात्रों ने देश-विदेश से पधारे प्रतिभागी छात्रों व टीम लीडरों के सम्मान में रंगारंग शिक्षात्मक-साँस्कृतिक कार्यक्रमों का ऐसा समां बांधा कि दर्शक मंत्रमुग्ध हो गये और तालियों की गड़गड़ाहट से सारा ऑडिटोरियम गूंज उठा। विदेशों से पधारे मेहमान भी इन छात्र-छात्राओं की कलात्मक प्रतिभा देखकर गदगद हो उठे।

उद्घाटन समारोह में देश-विदेश से पधारे प्रतिभागी छात्रों को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि प्रो. एस.पी. सिंह, वाइस-चांसलर, लखनऊ विश्वविद्यालय ने कहा कि संस्कृति ही मनुष्य को अच्छा आचरण सिखाती है व मनुष्य का नैतिक विकास करती है। अब समय आ गया है कि छात्रों को एकता के सूत्र में बाँधा जाये व उनमें मानवता की भलाई हेतु कार्य करने की इच्छाशक्ति जागृत हो। गीत, संगीत, कला, साहित्य सभी छात्रों को मानवता की भलाई हेतु संकल्पबद्ध करने का सबसे प्रभावशाली माध्यम है एवं ऐसी प्रतियोगिताओं से छात्रों में एक नया आत्मविश्वास जागृत होता हैं।

इससे पहले ‘यूरेका इण्टरनेशनल-2018’ में प्रतिभाग हेतु लखनऊ पधारे देश-विदेश के छात्र आज अपरान्हः सत्र में आयोजित एक प्रेस कान्फ्रेन्स में पत्रकारों से मिले और दिल खोलकर अपने विचार रखे। पत्रकारों से बातचीत करते हुए सुजाता विद्यालय, श्रीलंका से पधारे छात्रों ने कहा कि यहाँ हमें बिल्कुल घर जैसा माहौल मिल रहा है और सी.एम.एस. के छात्रों व शिक्षकों ने जिस गर्मजोशी से हमारा स्वागत किया है उससे हमारा उत्साह व खुशी दोगुनी हो गई है। सेंट ग्रेगरी हाई स्कूल एण्ड कालेज, ढाका, बांग्लादेश से पधारे छात्रों का कहना था कि यूरेका इण्टरनेशनल के माध्यम से हमें अपनी प्रतिभा को जाहिर करने का अनुपम अवसर मिल रहा है। मिथिला मान्टेसरी स्कूल, नेपाल से पधारे छात्रों ने बड़े उल्लास से कहा कि हम यूरेका की प्रतियोगिताओं में भाग लेने के अलावा एतिहासिक स्थलों की सैर करना चाहते हैं। इसी प्रकार देश के विभिन्न प्रान्तों से पधारे छात्रों का कहना था कि यूरेका एक अन्तर्राष्ट्रीय मंच है जिसके द्वारा हम ‘विश्व एकता’ की भावना सारे विश्व में फैलाना चाहते हैं। ‘यूरेका इण्टरनेशनल-2018’ में प्रतिभाग हेतु लखनऊ पधारे इन नन्हें-मुन्हें बच्चों का जोश देखते ही बनता था।

यूरेका इण्टरनेशनल-2018 की संयोजिका व सी.एम.एस. आनन्द नगर की प्रधानाचार्या सुश्री रीना सोटी ने कहा कि इस अन्तर्राष्ट्रीय महोत्सव से छात्रों के अन्दर छिपी प्रतिभा को पूर्ण रूप से प्रस्फुटित और पल्लवित होने का भरपूर अवसर प्राप्त होगा साथ ही वसुधैव कुटुम्बकम की भावना का प्रचार-प्रसार भी होगा। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि यह आयोजन भावी पीढ़ी की बहुमुखी प्रतिभा के विकास के साथ ही उनके मानवीय एवं आध्यात्मिक दृष्टिकोण को विकसित करने में मददगार साबित होगा। उन्होंने कहा कि विश्व एकता व विश्व शान्ति का सपना साकार करने के लिए जरूरी है कि भावी पीढ़ी विभिन्न देशों की संस्कृति व साहित्य से परिचत हो, क्योंकि यही वह जरिया है जिससे बड़ी आसानी से विश्व एकता व शान्ति का संदेश सारे विश्व में प्रवाहित किया जा सकता है। सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने कहा कि यह अन्तर्राष्ट्रीय महोत्सव न सिर्फ ज्ञान व कला का अद्भुद संगम बनेगा अपितु भावी पीढ़ी के बीच विचारों के आदान-प्रदान का सर्वोत्तम मंच साबित होगा। सी.एम.एस. न सिर्फ अपने छात्रों को अपितु देश-विदेश के सभी छात्रों को विश्वव्यापी दृष्टिकोण प्रदान करने की हर संभव कोशिश कर रहा है जिससे आगे चलकर भावी पीढ़ी सही मायने में विश्व नागरिक बन सके।

 

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *