Kabhi Khushi Kabhie Gham, अब वेब की दुनिया में होगा करीना से…

करीब 40 करोड़ की लागत में बनी इस फिल्म ने 135 करोड़ की कमाई कर बता दिया कि फैमिली ड्रामा की भी वैल्यू होती है।

बालीवुड : करीब 18 साल पहले करण जौहर ने बड़े परदे पर कभी ख़ुशी कभी ग़म के रूप में संयुक्त परिवार का एक ताना बाना बुना था। इस फिल्म ने कमाल किया था और तब से ये बार बार पूछा जाता रहा है कि क्या इसका अगला भाग कभी बनेगा ? ख़बर है कि इस k3g से जुड़ा एक कनेक्शन फिर से लोगों के सामने होगा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कभी ख़ुशी कभी ग़म में बेहद हिट हुआ किरदार पू अब वेब की दुनिया में आने वाला है। जानकारी के मुताबिक करीना कपूर के किरदार पूजा यानि पू को लेकर एक प्रोजेक्ट तैयार किया जाएगा जिसे वेब प्लेटफॉर्म पर दिखाने की योजना है। पू के किरदार को लेकर ही सारा ड्रामा रचा जाएगा लेकिन कहानी आज के दौर की होगी। फिल्म में पूजा का किरदार काफ़ी मॉर्डर्न ही था और अब उसे के दौर में ढाला जाएगा। ख़बर ये भी है कि इस किरदार के लिए असली रोल करने वाली करीना कपूर को ही वेब कास्टिंग किया जाएगा लेकिन इस बारे में अभी कोई बात नहीं बनी है।

करीना वैसे इन दिनों करण जौहर प्रोडक्शन की दो फिल्मों गुड़ न्यूज़ और तख़्त में काम कर रही हैं। साल 2001 में आई ‘कभी ख़ुशी कभी ग़म को k3G का नाम दिया गया और ये हिंदी फिल्मों के टाइटल को क्विकली निपटाने की परंपरा का झंडा उठाने वाली फिल्मों में इसी नाम से लोकप्रिय रही। करण जौहर की इस फिल्म ‘ कभी ख़ुशी कभी ग़म ‘ अपने नाम की तरह ही प्यार , परिवार और रिश्तों के टकराव की मसाला पेशकश थी। ज़ाहिर है जौहर ने बनाई इसलिए उस दौर के दिग्गज़ भी परदे पर थे। अमिताभ , जया , शाहरुख़ , रितिक , काजोल और करीना। करीब 40 करोड़ की लाग में बनी इस फिल्म ने 135 करोड़ की कमाई कर बता दिया कि फैमिली ड्रामा की भी वैल्यू होती है। शाहरुख़ खान ने फिल्मों में कदम रखने के ठीक नौ साल बाद उनके बेटे आर्यन खान ने इसी फिल्म के साथ बॉलीवुड में इंट्री ली थी। जया बच्चन की गोद में बैठा एक बच्चा आर्यन थे  अभिषेक बच्चन ने भी कुछ मिनिट का रोल निभाया था। लेकिन बाद में उन्होंने करण से कह कर अपना सीन हटवा दिया। वैसे यू -टयूब पर इस सीन की झलक मिल जाती है। कभी ख़ुशी कभी गम बॉलीवुड की वो पहली फिल्म थी जिसे एक किताब में कन्वर्ट किया गया था। इसके एक कॉफी टेबल बुक बनाई गई थी और इसी के बाद शुरू हो गया था फिल्मों की बुक मेकिंग का।

loading...