2 से 30 सितंबर तक तीसरी बार चलेगा संचारी रोग नियंत्रण अभियान

बाराबंकी। बरसात के मौसम में संचारी रोगों का खतरा बहुत बढ़ जाता है। वातावरण में नमी बढ़ने से लगातार वायरल, बुखार और जलजनित बीमारियों की चपेट में लोग आ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग इन मौसमी बीमारियों से लड़ने के लिए लगातार अभियान चला रहा है। इसके नियंत्रण के लिए पहली बार संचारी रोग नियंत्रण अभियान लगातार तीसरी बार चलाया जा रहा है। इसका तीसरा चरण दो से 30 सितंबर तक चलाया जायेगा। इस बार संचारी रोगों से बचाव के प्रति जन जागरूकता के कार्यक्रम योजनाबद्ध तरीके से किए जाएंगे। संचारी रोग नियंत्रण अभियान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के महत्वाकांक्षी अभियान में शामिल है।

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी व नोडल डा आरसी वर्मा ने बताया कि जिला अधिकारी के निर्देश के मुताबिक अभियान में शामिल सभी 13 विभागों के समन्वय से अभियान को अंजाम दिया जाएगा। इसमें चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग, शिक्षा विभाग, पंचायती राज विभाग, नगर निगम, जल निगम, ग्राम्य विकास विभाग, पशु पालन विभाग, कृषि एवं सिचाई विभाग, मतस्य पालन, स्वच्छता मिशन, सिचाई विगाग, सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग अन्य को शामिल किया गया ।

बताया कि अभियान का तीसरा चरण पूरे प्रदेश में 30 सितंबर तक चलेगा। मरीजों को समुचित उपचार देने के लिए जिले के सभी अस्पतालों में अलग से संक्रामक वार्ड बनाए गए हैं। इसके साथ ही सभी अस्पतालों में संक्रामक रोगों की दवाएं भी मुहैया करवा दी गई हैं। संक्रामक रोगों की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से जागरूकता अभियान चलाने के साथ ही दवाई का छिड़काव भी किया जा रहा है। उन्होने बताया कि संचारी रोग जैसे डेंगू, मलेरिया, जापानी बुखार एवं फाइलेरिया से बचाव के बारे में लोगों को बताया जाए। बताया कि सभी तहसील मुख्यालयों पर व स्कूली बच्चों द्वारा प्रभात फेरी, रैली निकालकर लोगों को स्वच्छता व संचारी रोगों से बचाव के प्रति जानकारियां दी जाएगीं। साथ ही मलेरिया डेगूं, मलेरिया, चिकनगुनिया को खत्म करने के लिए एंटी लार्वा का छिड़काव करवाया जायेगा। आशा 15 दिन गृह भ्रमण कर लोगों को संचारी रोगों के प्रति जागरूक करें। उन्होंने बताया कि माइक्रोप्लान के अनुसार पूरी कार्रवाई सुनिश्चित कराई जाए।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ रमेश चंद्र ने बताया कि माइक्रो प्लान के अनुसार इस अभियान में काम किए जाएंगे। संचारी रोग नियंत्रण अभियान दो सितंबर को जनप्रतिनिधियों द्वारा शुरू किया जाएगा। बताया कि संचारी रोगों से बचाव एवं रोकथाम हेतु यह अत्यन्त आवश्यक है कि जनसहभागिता के माध्यम से समाज में साफ-सफाई, मच्छरों की निरोधात्मक कार्रवाई, जल जमाव को रोकने की रणनीति तैयार की जाये, साथ ही समाज की सहभागिता से संचारी रोगों के फैलाव को रोका जाए। उन्होंने आगे बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में आशा, एएनएम द्वारा मातृ समूहों की बैठक, पानी को क्लोरीन टैबलेट के माध्यम से साफ करने का प्रदर्शन, हाथ धोने का प्रदर्शन, खुले में शौच से मुक्ति, गंदगी व कूड़े के ढेर की सफाई तथा कूड़े का उचित निस्तारण के सम्बन्ध में व्यापक जन जागरूकता के कार्यक्रम किये जाएंगे।

सीएमओ ने अभियान में उक्त सभी विभागों के अधिकारी एवं कर्मचारी से आपसी सहयोग के माध्यम से दिए गए दायित्व का निर्वहन करते हुए साफ – सफाई पर विशेष जोर देते हुए संचारी रोग नियंत्रण माह को सफल बनाने में सहयोग प्रदान करने के लिए अपील की।

loading...