संयुक्त राष्ट्र संघ ने जो सस्टेनबल डेवलपमेन्ट का लक्ष्य हमारे सामने रखा है, वह हमें पूरा करना है-दारा सिंह चौहान

सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) के छात्रों ने आज राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस के अवसर पर आज एक विशाल ‘पर्यावरण मार्च’ निकालकर पर्यावरण के संरक्षण व संवर्धन का जोरदार अलख जगाया और प्रदूषण कम करने के उपायों के बारे में लोगों को बताकर जागरूक किया। इस विशाल मार्च द्वारा सी.एम.एस. छात्रों ने दिन-प्रतिदिन खराब हो रहे पर्यावरण को लेकर जन-मानस को आगाह भी किया। सी.एम.एस. छात्रों का यह विशाल मार्च आज प्रातः गोमती नगर स्थित 1090 चैरोह से सी.एम.एस. गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) तक निकाला गया। मुख्य अतिथि के रूप में पधारे प्रदेश के वन मंत्री श्री दारा सिंह चैहान ने झण्डी दिखाकर सी.एम.एस. छात्रों के पर्यावरण मार्च को रवाना किया। इस विशाल मार्च में सी.एम.एस. अलीगंज (प्रथम कैम्पस), स्कालर्स होम एवं रिवरसाइड एकेडमी के छात्र-छात्राओं के साथ ही भूमि इनीशिएटिव संस्था के सदस्यों ने भी प्रतिभाग किया।

इस अवसर पर अपने उद्बोधन में मुख्य अतिथि श्री दारा सिंह चैहान ने स्वच्छ पर्यावरण हेतु सी.एम.एम. छात्रों की इस मुहिम की भरपूर प्रशंसा करते हुए छात्रों को बधाई भी दी। छात्रों की हौसलाअफजाई करते हुए श्री चैहान ने कहा कि आपके सामने प्रदूषण कम करने की बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। बच्चे अगर कुछ ठान लें तो पूरा करते हैं। अच्छे पर्यावरण की जो विरासत हमारो पूर्वज हमें सौंप गये हैं, उसे हमें भी अपनी भावी पीढ़ियों के लिए छोड़ना होगा। संयुक्त राष्ट्र संघ ने जो सस्टेनबल डेवलपमेन्ट का लक्ष्य हमारे सामने रखा है, वह हमें पूरा करना है। सी.एम.एस. प्रेसीडेन्ट प्रो. गीता गाँधी किंगडन ने कहा कि पर्यावरण की प्रमुख समस्या हमारे लालच, उदासीनता तथा लापरवाही के कारण उपजी है। यह समस्या किसी तकनीक से नहीं बल्कि हमारे स्वभाव में बदलाव लाकर दूर की जा सकती है।

सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने इस अवसर पर कहा कि सी.एम.एस. छात्र जन-जागरूकता के कार्यो में सदैव ही अग्रणी रहे हैं और यह पर्यावरण मार्च भी इसी की एक कड़ी है। आज आवश्यकता है कि समाज का प्रत्येक नागरिक पर्यावरणीय प्रदूषण के बारे में जागरूक व संजीदा हो। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि सी.एम.एस. छात्रों का यह मार्च किशोरों व युवाओं को पर्यावरण की चुनौतियों के निपटने हेतु जागरूक बनाएगा।

इससे पहले, सी.एम.एस. गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) के लगभग 500 छात्रों ने हाथों में पर्यावरण संरक्षण के नारे लिखे प्ले कार्ड्स तथा बैनर्स लेकर लखनऊ वासियों को प्रदूषण नियंत्रण के प्रति जागरूक किया। छात्रों ने ‘बी स्मार्ट, गो सोलर’, ‘अबकी बार प्रदूषण पे वार’, ‘जल है तो कल है’ आदि विभिन्न नारे लिखे पोस्टर-बैनर द्वारा जनमानस का जागरूक किया। इसके साथ ही, बेवजह गाड़ी का हार्न न बजाना, जरूरत न होने पर बिजली के उपकरणों को बंद करना, पाॅलीथिन की थैलियों का उपयोग न करना, किसी भी तरह का कचरा नदी या तालाब में न फेंकना, ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाने आदि विभिन्न तौर-तरीकों द्वारा पर्यावरण संवर्धन के प्रति जनमानस को जागरूक किया।

सी.एम.एस. गोमती नगर (प्रथम कैम्पस) की प्रधानाचार्या श्रीमती आभा अनन्त ने इस अवसर पर कहा कि दैनिक कार्यो से लेकर तो बड़े से बड़े कार्यों मंे तक हमने अपने वातावरण को बहुत दूषित कर लिया है। जिस पर ध्यान देना बहुत ही आवश्यक हो चुका है। बढ़ते प्रदूषण को अगर नही रोका गया तो हम अपने वर्तमान के साथ भविष्य को भी अंधकार में डुबो रहे हैं। श्रीमती अनन्त ने कहा कि बच्चों को बाल्यावस्था से ही पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक करना आवश्यक है।

loading...