Barabanki: प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना सप्ताह जारी, पहले दिन जुड़े 142 लाभार्थी

बाराबंकी । गर्भवती महिलाओं के लिए केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना ‘प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना सप्ताह’ का आगाज़ दो दिसंबर को पूरे देश में किया गया। स्थानीय जनपद में कार्यक्रम के पहले दिन करीब 142 गर्भवती महिलाओं को योजना के अनुरूप जोड़ा गया। जिले के सभी स्वास्थ्य केन्द्रों पर कार्यक्रम की गतिविधियां जारी है। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सेल्फ़ी पॉइंट बनाकर महिलाओं को योजना के बारे में जागरूक किया गया। साथ ही सभी आशाओं और संगनियों को उनके क्षेत्र के सभी लाभार्थियों का पंजीयन कराने के लिए आदेशित किया गया।

मुख्य चिकित्साधिकारी डा रमेश चंद्र ने सोमवार कार्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने अपील की है पहली बार मां बनने वाली महिलाएं इस योजना का लाभ जरूर उठाएं। आशा कार्यकर्ता अधिक से अधिक लाभार्थियों को इस योजना का लाभ दिलवाएं। गर्भवती महिलाओं व गर्भ में पल रहे बच्चों के पोषण के लिए विशेष रूप से यह योजना चलाई गई है। मातृ व शिशु मृत्यु दर में कमी लाना भी इसका उद्देश्य है।

केंद्रीय सचिव द्वारा ‘शासनादेश में कहा गया है कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत 5000 रूपये की धनराशि पहली बार गर्भवती होने वाली महिला को दी जाती है। पंजीकरण कराने के साथ ही गर्भवती को प्रथम किश्त में 1000 रूपये दिए जाते हैं। प्रसव पूर्व कम से कम एक जांच होने पर, गर्भवास्था के छह माह बाद दूसरी किश्त के रूप में 2000 रूपये और बच्चे के जन्म का पंजीकरण होने और बच्चे के प्रथम चक्र का टीकाकरण पूरा होने पर तीसरी किश्त के रूप में 2000 रूपये दिए जाते हैं। उन्होंने कहा कि इस योजना के बारे में और जागरूकता तथा प्रचार की आवश्यकता हैं विशेष सप्ताह में विभिन्न आयोजनों व गतिविधियों के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाएगा।

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. महेन्द्र कुमार सिंह ने बताया कार्यक्रम में पहले दिन 142 गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण किया गया। उन्होंने बताया इस योजना के अंतर्गत पहली बार मां बनने वाली गर्भवती महिलाओं को 5000 रूपये की आर्थिक मदद दी जाती है। यह राशि तीन किश्तों में दी जाती है। केंद्रीय सचिव रबींद्र पंवार द्वारा भेजे गये शासनादेश प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना सप्ताह मनाने के निर्देश दिए हैं। इसमें विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से लोगों को इस योजना के प्रति जागरूक किया जाएगा।

डीसीपीएम सुरेन्द्र कुमार ने बताया योजना का लाभ सभी सही पात्र लोगों तक पहुंचे इसके लिए आनलाइन पंजीकरण की व्यवस्था की गई है। यह सुविधा अमीर, गरीब व किसी भी जाति बंधन से मुक्त है। उन्होंने बताया कि केवल सरकारी कर्मचारी महिला को इसका लाभ नहीं मिलेगा। इसमे आवेदन के लिए किसी भी तरह का शुल्क नहीं लगता है। उन्होंने कहा कि धन व जागरूकता के अभाव में अधिकतर गर्भवती महिलाएं बेहतर पोषण से वंचित रह जाती हैं।

loading...