महातूफान ‘अम्फान’ की 160 किमी की स्पीड ने पश्चिम बंगाल को डराया

मौसम विभाग ने बताया है कि सुपर साइक्लोन अम्फान शाम तक कोलकाता पहुंच सकता है। यह भी बताया गया कि पश्चिम बंगाल में यह तूफान ओडिशा की तुलना में ज्यादा नुकसान पहुंचा सकता है। एनडीआरएफ की तरफ से बताया गया कि अब तक 6.5 लाख लोगों को सुरक्षित निकाला जा चुका है।

नई दिल्ली । कोरोना संकट के बीच अब ‘अम्फान’ सुपर साइक्लोन देश के तटीय इलाकों में तबाही मचा रहा है। हालांकि मौसम विभाग और एनडीआरएफ की सतर्कता से नुकसान में काफी कमी लाई जा सकी है। मौसम विभाग, NDRF और मंत्रालयों की प्रेस कॉन्फ्रेंस में इससे संबंधित सारी जानकारियां दी गईं। मौसम विभाग के डीजी ने बताया कि आज शाम तक यह सुपर साइक्लोन कोलकाता पहुंच सकता है। तूफान की गति 110 किमी प्रति घंटा के आसपास रह सकती है। इससे बड़े नुकसान की भी आशंका है। मौसम विभाग की तरफ से बताया गया कि सड़कों, पेड़ों और कच्चे मकानों को ज्यादा नुकसान हो सकता है।

डीजी एनडीआरएफ ने बताया कि लैंडफाल के बाद उनकी टीमों का असली काम शुरू होता है। पश्चिम बंगाल में तूफान लैंड कर चुका है और एनडीआरएफ की टीमें अपने काम में तन्मयता से लगी हैं। उन्होंने कहा, ‘पश्चिम बंगाल में सुपर साइक्लोन अम्फान का लैंडफाल शुरू हो गया है। हमारी नजर लगातार इस पर बनी हुई है। अम्फन तटों से टकराने लगा है और एनडीआरएफ की बटालियन तैयार हैं। हमारे पास आधुनिक उपकरण हैं। हमारी 24 टीमें एयरलिफ्ट के लिए तैयार हैं। NDRF ने पश्चिम बंगाल से 5 लाख और ओडिशा से 1.5 लाख लोगों को सुरक्षित निकाला है।

ओडिशा से ज्यादा पश्चिम बंगाल में हो सकता है नुकसान
उम्मीद यह है कि कोलकाता के पास आएगा तो कोलकाता, हुगली और हावड़ा आदि जिलों में भी हवा की रफ्तार 110 से 135 किलोमीटर तक रह सकती है। ओडिशा में 106 से 107 की रफ्तार से भारी नुकसान हुआ है, तो फिर बंगाल में नुकसान क्या होगा इसका अनुमान लगाया जा सकता है। सबसे ज्यादा हवा की रफ्तार साउथ और नॉर्थ 24 परगना और मिदनापुर जिलों में होगी। यहां रफ्तार करीब 155 से 185 तक हो सकती है।

loading...