सी.एम.एस. कैम्ब्रिज सेक्शन के छात्रों का आई.जी.सी.एस.ई. बोर्ड परीक्षा में शानदार प्रदर्शन

लखनऊ, 22 मई। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) का कैम्ब्रिज सेक्शन, जो कि इण्टरनेशनल जनरल सार्टिफिकेट आॅफ सेकेण्डरी एजूकेशन (आई.जी.सी.एस.ई.) एवं ए लेवल प्रदान करने वाला लखनऊ का एकमात्र शैक्षिक संस्थान है और कैम्ब्रिज इण्टरनेशनल असेसमेन्ट एजूकेशन (सी.ए.आई.ई.) द्वारा मान्यता प्राप्त है, ने कक्षा-10 की बोर्ड परीक्षा परिणाम में लगातार दूसरे वर्ष शानदार सफलता अर्जित की है। कैम्ब्रिज इण्टरनेशनल, जो कि कैम्ब्रिज असेसेमेन्ट की एक शाखा है, ने आई.जी.सी.एस.ई. हेतु भारत में मार्च 2020 में सम्पन्न हुई परीक्षाओं के परिणाम घोषित किये है। आई.जी.सी.एस.ई. सार्टिफिकेट अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की शैक्षिक योग्यता हेतु दुनिया भर में सर्वाधिक लोकप्रिय है और विश्व के अग्रणी विश्वविद्यालयों एवं प्रतिष्ठित नियोक्ताओं द्वारा मान्यता प्राप्त है। वास्तव में, यह 15 से 16 वर्ष के छात्रों हेतु प्रगति और सफलता का वैश्विक पासपोर्ट है।

सी.एम.एस. कैम्ब्रिज सेक्शन के 28 छात्र आई.जी.सी.एस.ई. बोर्ड परीक्षा में शामिल हुए जिन्होंने कुल 11 विषयों के लिए 215 प्रविष्टियां भेजी। आई.जी.सी.एस.ई. छात्रों को न्यूनतम 5 विषयों की परीक्षा में शामिल होना अनिवार्य है तथापि अपनी क्षमता के अनुसार छात्र विषयों की संख्या बढ़ा भी सकते हैं। परीक्षाओं के उपरान्त कैम्ब्रिज छात्रों को ।’ से लेकर न् तक ग्रेड प्रदान करता है। इन परीक्षाओं में सी.एम.एस. कैम्ब्रिज सेक्शन के अधिकतर छात्रों ने 8 से 9 विषयों में परीक्षाएं दी।

अनहिता सिंह ने 95.6 परसेन्टाइल के साथ पूरे स्कूल में टाॅप किया है एवं सात ।’ ग्रेड व तीन । ग्रेड अर्जित किया है। दक्ष कुमार एवं दिव्यांश त्रिपाठी द्वितीय स्थान पर रहे जिन्होंने समान रूप से 90.4 परसेन्टाइल अर्जित किया है एवं चार ।’ ग्रेड व चार । ग्रेड अर्जित किया है। सौम्या उपाध्याय ने 90 परसेन्टाइल के साथ तृतीय स्थान अर्जित किया है एवं तीन ।’ ग्रेड व चार । ग्रेड अर्जित किया है।

इसके अलावा, 16 छात्रों को आई.सी.ई. सार्टिफिकेट (डिस्टिंक्शन एवं मेरिट) प्रदान किया गया है। कुल मिलाकर सी.एम.एस. कैम्ब्रिज सेक्शन के छात्रों ने इकत्तीस ।’ ग्रेड एवं पैंसठ । ग्रेड अर्जित किये हैं। इस प्रकार, इस प्रतिष्ठित परीक्षा में 44.7 प्रतिशत प्रविष्टियों को ।’ ग्रेड अथवा । ग्रेड प्रदान किया गया है।

छात्रों की अभूतपूर्व सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए सी.एम.एस. गोमती नगर कैम्पस की वरिष्ठ प्रधानाचार्या सुश्री मंजीत बत्रा ने कहा कि हमें अपने छात्रों की सफलता पर गर्व है जिन्होंने आई.जी.सी.एस.ई. बोर्ड परीक्षा में इस प्रकार के शानदार परिणाम हेतु कड़ी मेहनत की है। इन छात्रों ने न सिर्फ शैक्षिणक क्षेत्र में अभूतपूर्व प्रदर्शन किया है अपितु व्यक्तित्व विकास के क्षेत्र में भी समान रूप से अग्रणी हैं। हम अपने शिक्षकों के आभारी हैं जिन्होंने शिक्षा प्रदान करने के साथ ही छात्रों के समग्र व्यक्तित्व विकास पर विशेष ध्यान केन्द्रित किया।

सी.एम.एस. संस्थापक डा. जगदीश गाँधी व डा. भारती गाँधी एवं सी.एम.एस. प्रेसीडेन्ट प्रो. गीता किंगडन ने परीक्षा परिणाम पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि इस अभूतपूर्व परीक्षा परिणाम से हम अत्यन्त प्रसन्न हैं तथा इन छात्रों को अन्तर्राष्ट्रीय बोर्ड परीक्षा में उत्कृष्ट सफलता प्राप्त करने के लिए बधाई देते हैं। हमें प्रसन्नता है कि सी.ए.आई.ई. में एफिलिएशन कराने से हमें लखनऊ के छात्रों को एक भिन्न प्रकार की शिक्षा उपलब्ध कराने में मदद मिली है।

सी.एम.एस. के डायरेक्टर आॅफ स्ट्रेटजी, श्री रोशन गाँधी, जो स्वयं व्यक्तिगत रूप से कैम्ब्रिज सेक्शन की शिक्षा-दीक्षा के प्रति तत्पर रहते हैं, ने कहा कि हमें अपने इन परिश्रमी छात्रों पर गर्व है जिन्होंने इस प्रतिष्ठत परीक्षा में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर शानदार परिणाम प्राप्त किये हैं। मैं सी.एम.एस. कैम्ब्रिज सेक्शन की लीडरशिप और सभी शिक्षकों को हार्दिक बधाई देना चाहता हूँ जिन्होंने अपनी कर्तव्यनिष्ठा, लगन व परिश्रम से सी.एम.एस. छात्रों को आज इस मुकाम पर पहुँचाया है।

सी.एम.एस. कैम्ब्रिज सेक्शन की कोआर्डिनेटर श्री सुषमा राजकुमार ने इस रिजल्ट पर प्रसन्नता जाहिर करते हुए कहा कि कैम्ब्रिज एसेसमेन्ट (सी.ए.आई.ई.) भारत के विभिन्न परीक्षा बोर्डों से अलग है क्योंकि छात्रों की योग्यता एवं कला-कौशल का परीक्षण व मूल्यांकन इसका प्रमुख हिस्सा है और इसके लिए विषयों की स्पष्ट वैचारिक समझ और गहन ज्ञान की आवश्यकता होती है। प्रत्येक विषय की परीक्षा में 2 या 3 पेपर होते हैं, जो संबंधित विषय के हर पहलू का परीक्षण करने के लिए निर्धारित होते हैं। ऐसे में, चयनात्मक अध्ययन या रट्टा सीखने से छात्रों को कोई मदद नहीं मिलती है। मार्च में सम्पन्न हुई परीक्षा वास्तव में बड़ी चुनौतीपूर्ण थी क्योंकि दो पालियों में परीक्षा आयोजित होने से छात्रों को रिवीजन का अवसर नहीं मिल पाया, फिर भी मुझे बेहद प्रसन्नता है कि हमारे मेधावी छात्रों ने इस चुनौती को सकारात्मक रूप से लिया और अभूतपूर्व परीक्षा परिणाम अर्जित कर अपनी श्रेष्ठता साबित की।

loading...