चीन को सबक सिखाने के लिए आ रहे 6 लड़ाकू विमान, जानें किस देश का मिला साथ…

विदेश डेस्क। भारत और चीन के बीच भयंकर तनाव की स्थिति की बनी हुई है। हालांकि दोनों देशों के बीच माहौल शांत करने के लिए बैठकों का दौर जारी है लेकिन वर्तमान में बात बनती हुई नहीं दिख रही है। चीन ये समझ चुका है कि अब भारत को किसी भी मोर्चे पर पीछे नहीं ढकेला जा सकता है। इस बीच, भारत को सबसे बड़ा हथियार राफेल फाइटर जेट मिलने जा रहा है। 27 जुलाई तक छह फाइटर जेट की पहली खेप भारत को मिल सकती है।

36 राफेल जेट का है पूरा नायडू
फ्रांस के साथ हुए खरीद समझौते के तहत भारत को 36 राफेल जेट मिलने वाले हैं। पहला खाप 27 जुलाई को भारत को मिल जाएगा। योजना के मुताबिक पहले 4 राफेल लड़ाकू विमान अंबाला आने वाले थे लेकिन फ्रांस अब कुछ ज्यादा संख्या में लड़ाकू विमानों को भेजेगा। 8 विमानों को सर्टिफिकेशन मिलने वाला है।

उच्च दिखने पर है वायुसेना
पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई झड़पों के बाद चीन के साथ तनाव बढ़ने के मद्देनजर आईएएफ पिछले दो सप्ताह से उच्च उपस्थिति पर है। 2 जून को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने फ्रांसीसी समकक्ष फ्लोरेंस पैली के साथ एक कवरेज पर बातचीत की, जिसके दौरान उन्होंने बताया कि राफेल जेट विमानों को फ्रांस में कोरोनावायरस महामारी के बावजूद भारत को तय समय के भीतर ही पहुंच गया।

फ्रांस से आने वाला है राफेल
फ्रांस के साथ हुए खरीद समझौते के तहत भारत को 36 राफेल जेट मिलने वाले हैं। पहला राफेल 27 जुलाई को भारत को मिल जाएगा। योजना के मुताबिक पहले 4 राफेल लड़ाकू विमान अंबाला आने वाले थे लेकिन फ्रांस अब कुछ ज्यादा संख्या में लड़ाकू विमानों के भेजेगा। 8 विमानों को सर्टिफिकेशन मिलने वाला है।

आकाश का अजेय राजकुमार है राफेल
राफेल विमान को आकाश को अजेय मठ माना जाता है। हवा से हवा में मार करने वाले लंबी दूरी की मिसाइलों से इसे लैस किया जा सकता है। इसका लक्ष्य अचूक होता है।

भारत की मदद को आगे आया दोस्त
इजरायल इजरायल ने भारत को करगिल युद्ध के दौरान भी बंदूकें की जल्दी मदद उपलब्ध कराई थी। चीन के साथ तनाव को देखते हुए इजरायल इस बार भी भारत को डिफेंस सिस्टम देने को तैयार है और इसे लद्दाख में तैनात किया जाएगा। सूत्रों ने बताया कि अनुमतिरायल से जल्द ही यह मारक हथियार भारत को मिलने वाला है। इजरायल से बराक -8 मिसाइल डिफेंस सिस्टम के लिए भारत लंबे समय से बात कर रहा था। इजरायल एयरोलाइट्स इंडस्ट्रीज (आईएआई) ने 2018 में यह जानकारी दी थी कि भारत से उसने 777 मिलियन डॉलर (लगभग 5687 करोड़ रुपये) की बार्क -8 मिसाइल डिफेंस सिस्टम डील की है।

पुराना मित्र रूस जल्द ही ‘ब्रह्मास्त्र’
भारत का पुराना मित्र रूस जल्द ही भारत के मिसाइल डिफेंस सिस्टम S-400 मुहूर्त करेगा। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के मास्को दौरे के दौरान रूस में ही इस प्रणाली को उपलब्ध कराने पर सहमति हो गई है।
टैंक से लेकर लड़ाकू विमान हर मोर्च पर तैयारी
भारत के पास कई सारे हथियार रूस के हैं। ऐसे में भारत ने टैंक के गोले से लेकर लड़ाकू विमानों से गिराए जाने वाले बम तक की आपूर्ति जल्दी करने का अनुरोध किया है। सेना ने भी ऐंटी टैंक मिसाइल की मांग की है। रूस इन सभी जोन्स की शुरुआती आपूर्ति करने वाला है।

अमेरिका भी हर मोर्चे पर साथ को तैयार
भारत का नया रणनीतिक साझेदार अमेरिका भारत को हर मोर्चे पर मदद देने को तैयार है। वह वर्तमान में खुफिया से लेकर सैटलाइट इमेज भारत को मुहैया करा रहा है। सैटलाइट इमेज के जरिए लद्दाख सीमा पर चीन की सारी हरकत दुनिया के सामने आ रही है। यही नहीं अमेरिका भारत को सभी प्रकार की मदद का आश्वासन दिया गया है। भारत ने अमेरिका से M777 का नंबर दिया है। यह हथियार पहाड़ी क्षेत्रों में लड़ने के लिए काफी प्रभावी होता है।

वायुसेना की क्षमता बढ़ेगी
सैन्य अधिकारियों ने नाम छापने की शर्त पर कहा कि राफेल जेट्स के आने से भारतीय वायुसेना की गोलीबारी क्षमता में काफी इजाफा होगा। वायुसेना का पहला स्क्वाड्रन अंबाला वायुसेना स्टेशन पर तैनात किया जाएगा, जिसे भारतीय वायुसेना के सबसे रणनीतिक रूप से स्थित ठिकानों में से एक माना जाता है।

कहां रखे जाएंगे ये विमान
इसको लेकर IAF ने पहले ही तैयारियों पूरी कर ली हैं, जिसमें आवश्यक बुनियादी ढांचा तैयार करना और लड़ाकू विमानों का प्रशिक्षण देना शामिल है। राफेल का दूसरा स्क्वाड्रन पश्चिम बंगाल में हासिमारा बेस पर तैनात किया जाएगा। भारतीय वायुसेना ने दो ठिकानों पर और रखरखाव सुविधाओं जैसे बुनियादी ढांचे को विकसित करने के लिए लगभग 400 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।

… तो चीन के शहर आएंगे जद में
भारत का सबसे खतरनाक हथियार न्यूक्लियर डिटरेंट अग्नि -5 मिस सिस्टम। 5,000 किलोमीटर की मारक क्षमता वाला ये मिसाइल सिस्टम परमाणु हथियार ले जा सकता है। अग्नि 5 कितना खतरनाक है इसका अंजाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसकी मारक क्षमता के दायरे में पूरा चीन आता है। यानी अगर भारत ने अग्नि -5 का इस्तेमाल किया तो चीन के किसी भी इलाके को टार्गेट किया जा सकता है। रक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि इस मिसाइल से पेइचिंग, शंघाई, गुआंगझाऊ और हॉन्ग कॉन्ग जैसे शहरों को लक्ष्य बनाया जा रहा है। चीन के ये शहर राजनीतिक और औद्योगिक नजरिए से बेहद खास हैं और अग्नि -5 सहित भारत की मिसल्स अगर लद्दाख या गुवाहाटी से पूर्वोतर इलाके से दागी गईं तो ये पूरी तरह से तबाह हो सकते हैं।

अग्नि -5
अग्नि -5 की ही बात करें तो तो इसका पहला टेस्ट 2012 में किया गया था और पूरी अग्नि श्रृंखला में यह सबसे आधुनिक हथियार है जिसमें नेविगेशन के लिए मॉडर्न टेक्नॉलजी हैं और परमाणु हथियार ले जाने की इसकी क्षमता दूसरी मिसाइल प्रणालियों से कहीं ज्यादा है। बेहतर है। इस समय अमेरिका, चीन, रूस, फ्रांस और नॉर्थ कोरिया के पास ही इंटरक फॉंटिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल्स हैं।

अग्नि -1
अग्नि श्रृंखला की इससे पहले की मिसालों में से अग्नि -1 बैलिस्टिक मिसाइल 700-1200 किलोमीटर की दूरी तक अपने लक्ष्य को अलग कर सकती है। यह 2004 में सबसे पहले सेवा में लाया गया था। जमीन से जमीन पर वार करने वाली इस सीलिंग-स्टेज मिसाइल को सॉलिड प्रॉपलैंट्स से बनाया गया है और यह एक टन पेलोड ले जा सकता है। यदि इसके पेलोड को अगर दिया जाए तो इसकी रेंज को बढ़ाया जा सकता है।

अग्नि -2
2,000 किलोमीटर तक की रेंज में सर्फेस टू सर्फेस दुश्मन को मार गिराने में ताकत रखने वाली अग्नि -2 की बलिस्टिक मिसाइल भी न्यूक्लियर सैलून को ले जाने में सक्षम है। खास बात यह है कि इस मिसाइल की रेंज को जरूरत पड़ने पर 3,000 किलोमीटर तक बढ़ाया जा सकता है। यह मिसाइल भी चीन के पश्चिमी, मध्य और दक्षिणी भागों को अपनी जद में ले सकती है। 20 मीटर लंबी दो लेवल की बैलिस्टिक मिसाइल का प्रक्षेपण वजन 17 टन है और यह 2000 किलोमीटर की दूरी तक 1000 किलोग्राम का पेलोड हो सकता है। यह नहीं है, यह मिस मॉड सटीक नौवातन प्रणाली से लैस है।

अग्नि -3
मिसाइल मध्यम दूरी तक मार करने वाली है और इसकी मारक क्षमता 3,500 किलोमीटर है। इसकी लंबाई 17 मीटर, व्यास 2 मीटर और वजन लगभग 50 टन है। इसमें 2 स्टेज का प्रोपेलरी सिस्टम है और यह 1.5 टन के हथियार को ले जाने में सक्षम है। अग्नि -3 मिसाइल हाइब्रिड नेविगेशन, गाइडेंस और कंट्रोल सिस्टम से लैस है। इसके अलावा इस कंप्यूटर पर भी सेट है।

अग्नि 4
परमाणु क्षमता से लैस अग्नि -4 भी मनोवैज्ञानिक परिचय टु सर्फेस 4000 किमी तक मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल है। यह मिस में उड़ान में किसी गड़बड़ी को खुद ही सही करने के काबिल है और नैशनलेशन सिस्टम से भी लैस है। एडवेंस्ट एविओनिक्स, फिफ्थ जनरेशन अनबोर्ड कंप्यूटर और डिस्ट्रिब्यूटेड आर्किटेक्चर टेकनीक का भी इस्तेमाल किया गया है।

राफेल की खासियत
राफेल मल्टीरोल फाइटर विमान हैं जो कि हवा से जमीन पर परमाणु हमला करने में सक्षम हैं। राफेल की मारक क्षमता 3700 किलोमीटर है। यह 2230 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ सकता है। साथ ही यह आगजनी से भी लैस रहेगा। ये फाइटर जेट 24,500 किलोग्राम तक वजन के साथ उड़ान भर सकते हैं और परमाणु हथियार ले जाने में भी सक्षम हैं। 36 राफेल जेट विमानों में से, 30 फाइटर जेट होंगे और छह प्रशिक्षक होंगे। ट्रेनर शून्य ट्विन-सीटर होंगे और उनके पास फाइटर जेट्स की लगभग सभी विशेषताएं होंगी। विमान की दरों और कथित भ्रष्टाचार सहित इस सेटिंग पर कांग्रेस ने सवाल उठाए थे, लेकिन सरकार ने आरोपों को खारिज कर दिया था।

loading...