कोरोना उपचार में अहम भूमिका निभा रहे यह मोबाइल एप, मिल रही ये सेवायें

-होम आइसोलेशन, आयुष कवच व आरोग्य सेतु एप से हो रहा ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट

– उपचार के साथ एप से मिल रहीं स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां

बाराबंकी। होम आइसोलेशन वाले कोविड उपचाराधीनों के लिये प्रदेश सरकार द्वारा लांच किये गये कई मोबाइल एप रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने से लेकर उपचार में भी उपचाराधीनों की मदद कर रहे हैं। मॉनिटरिंग में भी इस एप से सहायता मिल रही है। कोरोना की ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट से लेकर जागरूकता के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जा रहा है।

उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा राजीव सिंह ने बताया कि होम आइसोलेशन शुरू होने पर उपचाराधीनों को उपचार में मदद के लिए भी शासन ने कई उपयोगी एप लांच किये हैं। साथ ही उन्हें उपचार की गाइड लाइन में भी शामिल कर लिया गया है। ऐसे ही दो एप हैं-होम आइसोलशन एप और आयुष कवच एप, जिसे होम आइसोलेशन में रहने वाले को अपने मोबाइल में आरोग्य सेतु एप के साथ अनिवार्य रूप से डाउनलोड करना होता है। पिछले दिनों शासन से भी होम आइसोलेशन में रहने वाले सभी उपचाराधीनों को दोनों एप डाउनलोड कराने के निर्देश दिए थे।

होम आइसोलेशन एप में ये है खास

इस एप को उत्तर प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग की ओर से लांच किया गया है। इसे गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। यह एप होम आइसोलेशन के स्टेट पोर्टल से जुड़ा रहता है, जिसमें उपभोक्ता को अपना रजिस्ट्रेशन कराना होता है। रजिस्ट्रेशन के दौरान उपभोक्ता को अपने मोबाइल नंबर से ओटीपी देना होता है। इसके अलावा अपना पूरा पता दर्ज कराना पड़ता है। रजिस्ट्रेशन से पहले भी इस एप में कोरोना से बचाव और सावधानियों के बारे में जानकारी ले सकते हैं। रजिस्ट्रेशन होने के बाद इस एप में हर दो से तीन घंटे में उपचाराधीन के ऑक्सीजन लेवल की जानकारी फीड करनी होती है, जिससे स्टेट कंट्रोल रूम में उपचाराधीन की स्थिति की मॉनिटरिंग हो सके। इसके अलावा एप लोड करने के बाद कंट्रोल रूम में उपचाराधीन की गतिविधियों की भी खबर रहती है। साथ ही उपचाराधीन को कोरोना के लक्षण नहीं हैं या हल्के लक्षण हैं, उसके हिसाब से दवा के शेडयूल को लेकर भी अपडेट मिलता रहता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायक आयुष कवच एप

आयुष कवच एप आयुष विभाग की ओर से लांच किया गया है। यह उपचाराधीनों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करने में मदद करता है। एप के जरिए योग से जुड़े टिप्स भी मिलते हैं। साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के घरेलू तौर तरीकों की भी जानकारी मिलती है। एप में अलग-अलग उम्र के लोगों के लिए अलग-अलग लाइव योग सेशन की भी सुविधा उपलब्ध है। साथ ही कोरोना से बचाव के लिए खास और सामान्य बचाव की भी इस एप से जानकारी मिलती है।

कोरोना नोडल अधिकारी डा केएनएम त्रिपाठी बताते है कि आरोग्य सेतु एप के साथ ही कोरोना से इलाज में मदद और जागरूकता के लिए होम आइसोलेशन एप व आयुष कवच एप के प्रयोग को बढ़ावा दिया जा रहा है। कोविड उपचाराधीनों को अब होम आइसोलेशन में रहने के लिए होम आइसोलेशन एप डाउनलोड करना जरूरी है। इससे मानिटरिंग में मदद मिलती है।

loading...