PM मोदी सप्ताह में दो बार जरुर खाते हैं ये सब्जी, फायदे जानकर आप भी शुरू कर देंगे खाना

फिट इंडिया अभियान की पहली वर्षगांठ के मौके पर पीएम मोदी ने ऑनलाइन कॉन्फ्रेंस के दौरान विराट कोहली, अभिनेता मिलिंद सोमन, डायटिशियन रुजुता दिवेकर समेत तमाम धुरंधरों से मोरिंगा के पराठे का जिक्र किया था. उन्होंने इसे अपनी फिटनेस की सीक्रेट रेसिपी बताते हुए कहा था कि वे सप्ताह में कम से कम दो बार इसके परांठे जरूर खाते हैं. जी हां, मोरिंगा वही सब्जी है जिसे आप सहजन या ड्रमस्टिक के नाम से जानते हैं. तमाम मिनरल्स से भरपूर सहजन के सेहत का खजाना है.

डायबिटीज में फायदेमंद
सहजन में प्रोटीन, ऑयरन, बीटा कैरोटीन, अमीनो एसिड, कैल्शियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम, विटीमिन ए, सी और बी जैसे ढेरों पोषक तत्व पाए जाते हैं. एंटीऑक्सीडेंट्रस और एंटीबैक्टीरियल जैसे गुणों से भरपूर सहजन को सिर्फ हफ्रते में तीन दिन खाया जाए तो ये शुगर लेवल को काफी हद तक कंट्रोल कर देती है. दरअसल सहजन में राइबोफ्लेविन अधिक मात्रा में पाया जाता है जो शुगर को नियंत्रित करने का काम करता है.

जोड़ों के दर्द में राहत देती
जोड़ों के दर्द की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए सहजन बहुत फायदेमंद है. इसमें दूध से 4 गुना अधिक कैल्शियम, गाजर की तुलना में 4 गुना अधिक विटामिन ए, केले की तुलना में 3 गुना अधिक पोटेशियम पाया जाता है. वहीं इसकी पत्तियों में भी नींबू और संतरे की तुलना में 6 गुना अधिक विटामिन सी होता है. इसके सेवन से शरीर में पोषक तत्वों की कमी दूर होती है और तमाम परेशानियों में लाभ मिलता है.

वजन कम करती
अगर आपका वजन बहुत ज्यादा है तो सहजन के सेवन से कुछ ही दिनों में आपकी चर्बी छंटना शुरू हो जाएगी. इसमें मौजूद फास्फोरस शरीर का एक्सट्रा फैट घटाने में मददगार होता है. मोटे लोगों को सहजन की फलियों के साथ साथ इसकी पत्तियों का सेवन भी करना चाहिए.

अस्थमा में देती राहत
तमाम शोध से पता चला है कि सहजन की पत्तियों से तैयार पाउडर को लगातार तीन सप्ताह तक रोजाना तीन ग्राम लेने से अस्थमा के मरीजों को काफी राहत मिलती है. सहजन कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त होने से भी बचाती है.

हृदय रोग से बचाव
सहजन के सेवन से हाई बीपी नियंत्रित होता है, जिसके कारण हृदय रोग से बचाव होता है. ये इम्युनिटी बढ़ाने के साथ त्वचा संबन्धी परेशानियों में भी फायदेमंद है.

loading...