26 जनवरी यानि गणतंत्र दिवस पर बदला-बदला सा होगा इस साल राजपथ पर समारोह, जानिए…

नई दिल्ली, गणतंत्र दिवस 2021। भारत इस साल अपना 72 वां गणतंत्र दिवस मनाएगा. इस ऐतिहासिक मौके पर राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड का आयोजन होता है. इसमें भारतीय सैन्य बलों और हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत की झांकियां और परेड होती है. सहयोगी वेबसाइट ज़ी न्यूज़ की खबर के मुताबिक, इस जीवंत घटना को देखने करीब 100,000 से ज्यादा लोग शिरकत करते हैं लेकिन इस साल महामारी के चलते इसमें काफी बदलाव देखने को मिलेंगे।

गणतंत्र दिवस 2021 के लिए मुख्य अतिथि-
गणतंत्र दिवस 2021 के मौके पर इस साल कोई चीफ गेस्ट नहीं होगा. ऐसा 50 सालों में पहली बार होगा जब कोई चीफ गेस्ट नहीं होगा. बता दें, शुरू में, ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन को भारत आने के लिए आमंत्रित किया गया था. लेकिन, ब्रिटेन में एक नए कोविड-19 स्ट्रेन के बढ़ते प्रकोप के चलते उन्हें अपनी यात्रा रद्द करने के लिए मजबूर होना पड़ा. इससे पहले, भारत के पास 1952, 1953 और 1966 में परेड के लिए मुख्य अतिथि नहीं थे.

ध्वजारोहण (झंडा फहराना) का कार्यक्रम 26 जनवरी मंगलवार को सुबह 8 बजे होगा-

पिछले साल 150,000 के मुकाबले इस साल गणतंत्र दिवस 2021 समारोह में सिर्फ 25,000 लोग ही होंगे. इसी तरह, मीडिया प्रतिनिधियों की संख्या को 300 से घटाकर 200 तक कर दी गई है. इसके साथ ही 15 साल से कम उम्र के बच्चों को उपस्थित होने की परमिशन नहीं दी जाएगी.

(PTI)

गणतंत्र दिवस परेड 2021 में किया होगा परफॉर्म-

गणतंत्र दिवस परेड राष्ट्रपति भवन से शुरू होकर इंडिया गेट पर खत्म होगी. इसके बाद का मार्ग विजय चौक से राजपथ, अमर जवान ज्योति, इंडिया गेट प्रिंसेस पैलेस, तिलक मार्ग से होते हुए आखिर में इंडिया गेट तक जाएगा. पिछले साल भारतीय वायु सेना (IAF) में शामिल राफेल लड़ाकू जेट, पहली बार परेड में भाग लेंगे. परेड में भारत की पहली महिला फाइटर पायलट – भावना कंठ और बांग्लादेश सशस्त्र बलों की एक टुकड़ी भी शामिल होगी.

इस साल नहीं होगा कोई मोटरसाइकिल स्टंट- 

COVID-19 सुरक्षा मानदंडों के चलते, मोटरसाइकिल से चलने वाले पुरुषों के करतब (स्टंट) जो राजपथ पर गणतंत्र दिवस समारोह में भीड़ के लिए एक प्रमुख आकर्षण होता है, इस साल गायब हो जाएगा. अधिकारियों ने कहा कि इसके अलावा, वीरता पुरस्कारों की परेड और बहादुरी पुरस्कार हासिल करने वाले बच्चे भी 72वें गणतंत्र दिवस समारोह में नहीं होंगे.

बांग्लादेश सेना की टुकड़ी लेगी हिस्सा-

बांग्लादेश सेना का एक सैन्य बैंड भी परेड में भाग लेगा. इस साल, बांग्लादेश ने अपनी स्वतंत्रता की 50 वीं वर्षगांठ मनाई. लद्दाख जो हाल में ही केंद्रशासित क्षेत्र बना है, राजपथ पर एक शानदार झांकी के साथ पहली बार दस्तक देगा. जिसमें सांस्कृतिक विरासत को दर्शाया जाएगा

कोविड 19 वैक्सीन पर भी निकलेगी झांकी-

संस्कृति मंत्रालय, इलेक्ट्रॉनिक्स मंत्रालय और आईटी, आयुष मंत्रालय, सूचना और प्रसारण मंत्रालय, और रक्षा क्षेत्र से झांकियां निकलेंगी. जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी) की झांकी स्वदेशी रूप से COVID-19 वैक्सीन के निर्माण के लिए वैज्ञानिकों द्वारा किए गए प्रयासों को प्रदर्शित करेगी. झांकी वैक्सीन के पूर्व-परीक्षण और परीक्षण चरणों के विभिन्न चरणों का चित्रण करेगी.

loading...