पहली बार ISIS की भारतीय महिला एजेंट फिलीपींस से गिरफ्तार, एेसे ढूंढती थी शिकार

मनीला । ISIS में भर्ती करने वाली महिला आयशा हामिदन को राष्ट्रीय जांच एजैंसी (NBI) ने फिलीपींस से गिरफ्तार कर लिया है। आयशा फिलीपींस आतंकवादी नेता मोहम्मद जाफार मैकिड की विधवा है।

हामिदन का काम संगठन में नए आतंकियों की भर्ती करना है। राष्ट्रीय जांच एजैंसी (NIS) ने फिलीपींस सरकार से हामिदन के बारे में जानकारी और सुबूत जुटाने के लिए मदद मांगी थी जिसके बाद से NBI आयशा हामिदन को लेकर काफी अलर्ट थी।

NIA को इस बात पर पहली बार शक तब हुआ जब भारत में गिरफ्तार किए गए ISIS आतंकियों मोहम्मद सिराजुद्दीन और मोहम्मद नासिर का लिंक हामिदन के साथ जोड़ा गया।

NIA को पिछले साल ऐसी खबरें मिली थी कि हामिदन भारत, संयुक्त अरब अमीरात, अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और बांग्लादेश आदि जैसे देशों से ‘विदेशी लड़ाकों’ की भर्ती के लिए फेसबुक, टैलीग्राम चैनल और व्हाट्सएप समूह का इस्तेमाल कर अपने शिकार ढूंढती है।

कुछ भारतीय मुंबई, तिरुचिरापल्ली, हैदराबाद, श्रीनगर, सोपोर, कानपुर, कोलकाता और जयपुर से हामिदन के साथ संपर्क करते थे। हामिदन मेट्रो मनीला के टेगुइग सिटी में डिएगो शिलांग गांव की रहने वाली है।

उसका असली नाम करेन आयशा अल-मुस्लिमाह है। हामिदन ऐसे लोगों को इस ग्रुप में शामिल करती थीं जो आतंक, जिहाद, खिलाफत विचारधारा रखते थे और इस काम में उनका साथ देना चाहते थे।

दूसरे देशों के अलावा भारत के भी कई युवा ISIS में शामिल होने के इच्छा जता चुके थे। कहा जाता है कि हामिदन युवाओं को बरगालकर आतंकी संगठन में भर्ती करने में माहिर थी।

loading...