उत्तर प्रदेश : आगरा एक्सप्रेस-वे पर फिर उतरे लडाकू विमान

उन्नाव। भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान लखनऊ-आगरा एक्सप्रैस-वे पर आज जब हवाई कलाबाजियां दिखाई तो अद्भुत नजारा देखने को मिला। लखनऊ-आगरे एक्सप्रेस वे पर भारतीय वायुसेना ने आज एक नया इतिहास लिखा। इस दौरान कई विमान यहां उतरे।

एक्सप्रेस-वे पर मिराज 2000, जगुआर, सुखोई 30 और एएन-32 परिवहन विमान समेत कुल 20 विमान टचडाउन उतरे और पूरे एक्सप्रेस वे को अपने कब्जे में ले लिया। इस लिस्ट में सबसे पहले हरक्यूलिस C130J की लैंडिंग हुई है। ये एक मालवाहक एयरक्राफ्ट है।

एक्सप्रेस-वे पर लैंड होते ही इसमें से कई गाड़ियां निकलीं। हरक्यूलिस C130J उन्नाव के पास लैंड हुआ। इसके बाद फाइटर जेट जगुआर का नंबर आया। यह वायुसेना का बम वर्षक विमान है जो एक बार 4000 किलो से ज्यादा का वजन ले जा सकने में सक्षम है।

इस दौरान एक के बाद एक तीन जगुआर फाइटर जेट्स ने टच डाउन किया। फिर वायुसेना के मिराज 2000 ने टच डाउन किया। यह जगुआर के मुकाबले हल्का फाइटर जेट्स हैं। इसके बाद तीसरी लाइन में सुखोई 30 ने लो ओवरशूट किया। भारतीय वायुसेना का यह फाइटर जेट 3000 किमी की दूरी तक हमला करने में सक्षम है। इसके बाद इन जेट्स ने भी टच डाउन किया।

पहली बार उतरे लखनऊ-आगरा एक्सप्रैस-वे पर
यह पहला मौका है, जब चार वायुसेना स्टेशनों के विमान एक साथ इसमें शामिल होकर तीन घंटे से अधिक समय तक एक्सप्रेस-वे की एयर स्ट्रिप पर रिहर्सल कर रहे हैं। ‘आपरेशनल रिहर्सल’ गरुड़ कमांडो की निगरानी में हो रहा है। ये एयर स्ट्रिप पर मौजूद रहेंगे और धरती से आकाश तक इनकी नजर होगी। आज यहां युद्ध जैसा नजारा देखने को मिला। दूर-दूर से लोग इसे अभ्यास को देखने आए।

चार सेकेंड तक जमीन पर 15 लड़ाकू विमान
लड़ाकू विमान सुपरसोनिक सुखोई एसयू-30, जगुआर और मिराज जब आगरा एक्सप्रेस-वे पर उतरेंगे तो उनकी गति 260 किलोमीटर प्रतिघंटा की होगी। वैसे तो एक्सप्रेस-वे का पांच किलोमीटर का हिस्सा विमानों के टच और उड़ान भरने के लिए लिया गया है लेकिन केवल तीन किलोमीटर एक्सप्रेस-वे का इस्तेमाल किया जाएगा। तेज गति से विमान तीन सौ मीटर के पैच पर ही उतरेंगे। वह केवल चार सेकंड के लिए जमीन को छुएंगे।

उल्लेखनीय है कि देश में ऐसा प्रयोग पहली बार 2015 में किया गया था। जब एयरफोर्स के मिराज फाइटर प्लेन ने किसी राजमार्ग पर टच डाउन किया था। दूसरी बार ऐसा प्रयोग पिछले साल लखनऊ के पास इसी जगह पर किया गया था, जो पूरी तरह से सफल रहा था।

 

loading...