चीन की चाल, पहले पाक को किया तबाह, क्या अब भारत की बारी?

नई दिल्ली। एक तरफ तो चीन सिक्किम के डोका ला क्षेत्र को लेकर भारत को लगातार आंख दिखा रहा है वहीं दूसरी ओर भारत की तारीफों के पुल भी बांध रहा है।

चीन का ये दोहरा रवैया अपनाने का खेल आज का नहीं है। पहले भी वो इसी तरह भारत को गलतफहमी में रख कर मौके का फायदा उठाने की कोशिश कर चुका है।

दरअसल चीन के राष्ट्रपति शी जिंगपिंग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफों के पुल बांधे हैं। आतंकवाद के खिलाफ भारत द्वारा अपनाए गए कड़े रुख और ब्रिक्स देशों के बीच सामंजस्य स्थापित करने को लेकर जिनपिंग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की काफी सराहना की है।

अमेरिका ने निकाली चीन के दावों की हवा, दक्षिणी चीन सागर में उड़ाए लड़ाकू विमान

गौरतलब है कि सिक्किम के डोकलाम सेक्टर दोनों देशों के बीच उपजा तनाव शांत होने का नाम नहीं ले रहा है वहीं इन सब के बीच चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हैम्बर्ग में ब्रिक्स देशों के नेताओं की एक अनौपचारिक बैठक में एक दूसरे से मुलाकात की है।

इस मुलाकात के दौरान पीएम मोदी ने साल 2017 के अंत में चीन में होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन में भारत के पूर्ण सहयोग का वादा किया है। जिसकी अध्यक्षता शी जिनपिंग ही करेंगे।

कांग्रेस के कद्दावर मुस्लिम नेता का शर्मिंदगी भरा बयान, सरकार में होते तो बुरहान जिंदा होता

आतंकवाद को लेकर दोनों नेताओं के रुख में समानता देखने को मिली है। हालांकि, दोनों के बीच द्विपक्षीय बैठक का कोई कार्यक्रम निर्धारित नहीं था। सीमा पर जारी तनाव को लेकर पहले ही स्थिति साफ कर चुका था कि इस माहौल के बीच दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय बैठक संभव नहीं है।

loading...