ICC महिला विश्व कप: भारत ने आस्ट्रेलिया को दिया 282 रन का लक्ष्य

डर्बी। भारत ने टास जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए आस्ट्रेलिया के खिलाफ आईसीसी महिला विश्व कप सेमीफाइनल में आज यहां 42 आेवरों में चार विकेट पर 281 रन बनाए।

न्यूजीलैंड के खिलाफ पिछले मैच में शतक जडऩे वाली मिताली ने हमेशा की तरह संभलकर बल्लेबाजी की और इस बीच हरमनप्रीत ने दूसरे छोर से स्ट्राइक रोटेट करके उनका बखूबी साथ निभाया। मिताली को क्रिस्टीन बीम्स की गेंद पर उन्हें जीवनदान मिला।

भारतीय कप्तान हालांकि इसका फायदा नहीं उठा पाई और इस लेग स्पिनर की अगली गेंद पर बोल्ड हो गई। हरमनप्रीत हालांकि पूरे रंग में दिखी। उन्होंने विशेष रूप से स्पिनरों को अपने निशाने पर रखा। इस 28 वर्षीय बल्लेबाज ने बीम्स की गेंद पर पारी का पहला छक्का लगाया।

उन्होंने दूसरी स्पिनर जेस जोनासेन को भी नहीं बख्शा और उनके एक आेवर में दो चौके जडऩे के बाद बाएं हाथ की इस स्पिनर के अगले आेवर में लगातार गेंदों को छह और चार रन के लिए भेजा।

वह बीम्स की गेंद पर चौका लगाकर शतक के करीब पहुंची और इसी आेवर की आखिरी गेंद पर तेजी से दो रन चुराकर वनडे में अपना तीसरा शतक पूरा किया। इसके लिए उन्होंने 90 गेंदें खेली तथा 12 चौके और दो छक्के लगाए।

शतक पूरा करने के बाद तो हरमनप्रीत को केवल बाउंड्री नजर आ रही थी और आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को समझ में नहीं आ रहा था कि बिग बैश में उनके साथ खेल चुकी इस बल्लेबाज के लिए कहां गेंद करें।

हरमनप्रीत ने गार्डनर की गेंद पर लगातार दो छक्के और दो चौके लगाकर अपना पिछला सर्वश्रेष्ठ स्कोर (107 रन) और आस्ट्रेलिया के खिलाफ किसी भी भारतीय का सर्वाेच्च स्कोर पार किया।

गार्डनर ने अपने पहले सात आेवरों में केवल 20 रन दिए थे लेकिन इस आेवर में वह 23 रन लुटा गई। उन्होंने स्कट की गेंद पर दो चौके लगाने के बाद एलिस विलानी की गेंदें छक्के और चौके के लिए भेजी। दीप्ति इस आेवर में बोल्ड हो गई लेकिन हरमनप्रीत पर इसका कोई असर नहीं पड़ा।

हरमनप्रीत ने जल्द ही अपने 150 रन पूरे किए और फिर जोनासेन की गेंद पर लगातार दो छक्के जड़कर आस्ट्रेलियाई गेंदबाजों को पस्त किया। जोनासेन ने सात आेवरों में 63 जबकि स्कट ने नौ आेवरों में 64 रन लुटाए।

loading...