लालू ने नीतीश पर लगाया ये संगीन आरोप, कहा- इस केस में हो सकती है उनको फांसी

ई दिल्ली। नीतीश कुमार द्वारा बिहार के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिए जाने के आधे घंटे बाद मीडिया के सामने आए राजद के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने अपने पूर्व सहयोगी पर पलटवार किया। लालू ने आरोप लगाया कि नीतीश कुमार के खिलाफ 1991 में हत्या का मामला दर्ज हुआ था और इस मामले में अदालत ने 31 अगस्त 2009 को संज्ञान लिया है।

नीतीश कभी भी इस मामलें में फंस सकते हैं क्योंकि उनके खिलाफ आईपीसी की धारी 302 व 307 के तहत एफआईआर दर्ज है और इस मामले में उन्हें फांसी भी हो सकती है। लालू ने कहा कि हत्या का केस भऱष्टार से बड़ा है लेकिन नीतीश कुमार इस पर चुप्प हैं।

नीतीश इस मामले में बच निकलना चाहते हैं लेकिन कोर्ट इस मामले में संज्ञान ले चुका है। नीतीश के खिलाफ इस एफआईआर में आर्म्स एक्ट की धारा भी जुडी हुई है। नीतीश कुमार को इस बात का अंदाजा हो गया था कि वे इस मामले में फंसने वाले हैं लिहाजा उन्होंने इस्तीफा देने का खेल खेला है।

लालू ने दिया सरकार बनाने का नया फार्मूला
लालू ने राजद- जदयू और कांग्रेस से कहा कि वह अपना नया नेता चुने और उसे सीएम बनाए। नीतीश की मोदी के साथ पहले ही सेटिंग हो चुकी थी। ना नीतीश और ना ही तेजस्वी, अब कोई तीसरा नेता ही सीएम होगा।

सांप्रदायिक ताकतों का मुकाबला करने को देश को बचाने के लिए हमारा संघर्ष जारी रहेगा। महागठबंधन बना रहेगा। लालू ने कहा कि जब नीतीश से पत्रकारों ने यह पूछा कि वह भाजपा का समर्थन लेंगे तो उन्होंने “ना” नहीं कहा।

loading...