कांग्रेस ने माेदी के खिलाफ ढ़ूढा PM चेहरा

नई दिल्ली। कांग्रेस ने 2019 के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी मोदी के सामने चेहरा बनकर सामने आ सकते हैं जिसके संकेत पार्टी ने राष्ट्रपति चुनाव में अपना उम्मीदवार मैदान में उतार कर दे दिए हैं।

मीरा कुमार को मैदान में उतार कर कांग्रेस ने ये साफ कर दिया है कि वह किसी अन्य पार्टी अथवा नेता की लीडरशिप के आधीन आने को तैयार नहीं है।

पीएम उम्मीदवार से नीतीश का किनारा
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि 2019 का चुनाव सिर्फ विपक्षी एकता से नहीं जीता जा सकता है। उन्होंने साफ कर दिया है कि 2019 के लिए वह विपक्ष का चेहरा नही हैं। उन्होंने हाल ही में कहा कि ना ही उनमें वो क्षमता है, ना ही वह एक छोटी पार्टी है, वह इस तरह का ख्याल नहीं पालते। लेकिन अंत में नीतीश ने यह भी कहा कि जिसका नाम पहले से आता है वह कभी प्रधानमंत्री बनता है क्या?

अभी भी दबदबा कायम
मोदी को अपना चेहरा बनाने के बाद भले ही भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर सबकी सामने आई हो लेकिन कांग्रेस का दबदबा भी अभी कायम है। 2014 में हुए चुनाव में भी कांग्रेस दूसरी सबसे बड़ी पार्टी थी। भाजपा ने जहां 33 प्रतिशत वोट शेयर के साथ सत्ता पर काबिज हुई थी वहीं कांग्रेस 19 प्रतिशत वोट शेयर के साथ सत्ता विपक्ष बनी। सबसे बड़ी बात ये है कि कांग्रेस के पास खोने के लिए कुछ नहीं है। ऐसे में मोदी के लिए आने वाले समय में सीधा मुकाबला राहुल गांधी से होने वाला है।

आने वाले पोल में सीधा मुकाबला
5राज्यों के आने वाले चुनाव में कांग्रेस की भाजपा को सीधी टक्कर देने की उम्मीद है। कांग्रेस को लगता है जो 44 सीटों की टैली थी पार्टी आने वाले चुनाव में इससे बेहतर प्रदर्शन ही करेगी। मोदी सरकार के हम तीन साल के कार्यकाल पर एक नजर डालें तो लोगों में इसका गुस्सा साफ देखने को मिलेगा। एक मिडल क्लास को कुछ नहीं मिला और दूसरी तरफ नोटबंदी और जीएसटी के बाद जो लोगों को दिक्कत आई इसका असर भी आम चुनाव में दिख सकता है। गुजरात में 26, मध्य प्रदेश में 29, राजस्थान में 25 सीटें यानि 5 राज्यों में करीब 100 से ’यादा सीटे हैं। राजस्थान में वसुंधरा राजे की छवि भी कुछ खास नहीं है। ऐसे में कांग्रेस को भाजपा को सीधी टक्कर देने की उम्मीद है।
किसी पार्टी की लीडरशिप के आधीन आने को तैयार नहीं कांग्रेस
कांग्रेस ने राष्ट्रपति चुनाव में 2019 की रणनीति बिल्कुल साफ कर दी है। 2019 के मद्देनजर तमाम राजनीतिक दलों और नेताओं को एक मंच पर लाने में जुटी कांग्रेस राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को लेकर हो रही खींचा ताने के बीच अपना राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार उतारा। कांग्रेस ने विपक्ष को साफ कर दिया है वह किसी पार्टी के आधीन काम करने को तैयार नहीं है। ऐसे में कांग्रेस के पास 2019 में चुनाव लडऩे के लिए केवल राहुल गांधी के अलावा कोई चेहरा नहीं है।

loading...